Thursday, September 17, 2009

आज मैंने अपने बुजुर्गों का श्राद किया क्योंकि आज अमावस्या है ,यानि श्राद्द का आखिरी दिन ,खास कर मेरी माँ जो मुझे कुच्छ महीने पहले हमेशा के लिए छोड़  के चली गयीं बहुत याद आयी .माँ तुम जहाँ भी हो भगवन आपकी आत्मा को शांति दे येही दुआ की भगवान  से बस
....... ..................................................... ये जीवन है इस जीवन का येही है रंग रूप थोड़े ग़म हैं थोडी खुशियाँ येही है छाओं धुप .......................................ज़िन्दगी क्या है कोई नहीं समझ सकता शायद  .............................    .    .     .      .          .          .              .               .                .                 .              .      .          .

1 comment:

कुलवंत हैप्पी said...

चंद शब्द, बहुत कुछ कहते हैं।